बेड रूम के लिए वास्तु : Vastu Tips for Bedroom in Hindi

वास्तु
बेड रूम के लिए वास्तु टिप्स (Vastu Tips for Bedroom in Hindi) – बेड रूम (शयन कक्ष) के स्थान और सामान के लिए वास्तु टिप्स| बेडरूम आपका वह स्थान जहां आप  अपना सबसे ज्यादा समय बिताते हें| पुरे दिन काम करने के बाद यह स्थान आपके शरीर और दिमाग को आराम और शांति प्रदान करता है| यहाँ वास्तु शास्त्र के अनुसार शयन कक्ष के स्थान और चीजों के रखरखाव  के लिए कुछ सुझाव दिए गए हैं | बेड रूम के लिए उपयुक्त दिशाये: मुख्य  शयन कक्ष, जिसे मास्टर बेडरूम भी कहा जाता हें, घर के दक्षिण पश्चिम या उत्तर पश्चिम की ओर होना चाहिए | अगर घर में एक मकान की ऊपरी मंजिल है तो मास्टर ऊपरी मंजिल मंजिल के दक्षिण पश्चिम कोने में होना चाहिए | बच्चों का कमरा उत्तर…
Read More

बिटकॉइन माइनिंग क्या है और बिटकॉइन कैसे बनता है

तकनीक
बिटकॉइन माइनिंग क्या है और बिटकॉइन कैसे बनता है बिटकॉइन कौन चलाता है - Bitcoin Network बिटकॉइन का उपयोग अन्तर्राष्ट्रीय डिजिटल मुद्रा के रूप में हो रहा है पर अन्य मुद्राओं की तरह इसे कोई सेंट्रल बैंक नियंत्रित नहीं करता है| किसी भी देश के सेंट्रल बैंक वहा की मुद्रा के छापने और सर्कुलेशन पर नियंत्रण रखते है और मुद्रा की गारंटी देते है | बिटकॉइन नेटवर्क में नए बिटकॉइन को जारी करना (उत्पादन), ट्रांसेक्शन एवं गारंटी बिटकॉइन की अल्गोरिथम (प्रोग्राम) और विश्व भर के लोगो द्वारा सामूहिक रूप से चलाये गए बिटकॉइन माइनिंग नेटवर्क से होता है। नए बिटकॉइन भी सोने की तरह माइनिंग से बनते है और बिटकॉइन माइनिंग का काम विश्व में कोई भी कही से भी कर सकता है| यह काम इंटरनेट पर जुड़े कंप्यूटर पर…
Read More
इन्टरनेट ऑफ़ थिंग्स क्या है – IOT in Hindi

इन्टरनेट ऑफ़ थिंग्स क्या है – IOT in Hindi

तकनीक
IOT इन्टरनेट ऑफ़ थिंग्स, इन्टरनेट पर जुडी हुई चीजो की एक प्रणाली है| ‘थिंग्स’ का तात्पर्य एक इकाई या चीज से है जो कि इंसान, वस्तु या जानवर कुछ भी हो सकता हैI इसे M2M के नाम से भी जाना जाता है| इस प्रणाली से जुडी हर एक चीज यानि वस्तु, जानवर एवं इंसान को एक यूनिक आई डी (पहचान) दी जाती है, ये सभी आपस में नेटवर्क पर जुड़े होते है और इसमें लगे प्रोग्राम के द्वारा एक दूसरे को बिना कोई बटन दबाये अपने आप डाटा भेजते रहते है| इस प्रणाली में इंसानी हस्तक्षेप बहुत कम होता है, सारा काम स्वतः ही हो जाता हैI IOT के उदहारण के लिए ह्रदय की बीमारी के मरीज की स्वस्थ की जानकारी के लिए उसे पहनने के लिए एक बैंड (पट्टा)…
Read More

राम स्तुति – श्री रामचंद्र कृपालु भज मन Sri Ram Stuti

विविधा
श्री राम स्तुति – Sri Ram Stuti श्री राम चंद्र कपालु भजमन भगवान राम की अनेक स्तुतियो का विभिन्न ग्रंथो में उल्लेख है | प्रस्तुत है गोस्वामी तुलसीदास जी की विनय पत्रिका में लिखी गयी श्री राम स्तुति श्री राम स्तुति – Ram Stuti in Hindi श्री रामचंद्र कृपालु भज मन हरण भवभय दारुणम् | नव कंजलोचन कंजमुख करकंज पदकंजारुणम् || कंदर्प अगणित अमित छवि नव नील नीरद सुन्दरम् | पट पीत मानहु तडित रूचि शुचि नौमी जनक सुतावरम || भज दीनबंधु दिनेश दानव दैत्य वंश निकंदनम् | रघुनंद आनंद कंद कौसल चंद दशरथ नन्दनम् || सिर मुकुट कुंडल तिलक चारु उदार अंग विभूषणम् | आजानु भुज शरचाप धर संग्रामजित खर दूषणम् || इति वदति तुलसीदास शंकर शेष मुनि मन रंजनम् | मम ह्रदय कंज निवास कुरु कामादी खल दल…
Read More

दुर्गा माता जी की आरती – जय अंबे गौरी

विविधा
दुर्गा माता जी की आरती – जय अंबे गौरी ॐ एं ह्रीं क्लीं चामुण्डायैः विच्चे॥ दुर्गा माता भगवान शिव की पत्नी माता पार्वती का एक रूप हैं। देवताओं की प्रार्थना पर महिसासुर रूपी राक्षसों का नाश करने के लिये पर माता पार्वती ने दुर्गा रूप धारण किया था। देवी दुर्गा के स्वयं कई रूप हैं । मुख्य रूप उनका “गौरी” है, अर्थात शान्तमय, सुन्दर और गोरा रूप । उनका सबसे भयानक रूप काली है, अर्थात काला रूप । नौ दुर्गाओं के स्वरूप का वर्णन संक्षेप में ब्रह्मा जी ने इस प्रकार से किया है: प्रथमं शैलपुत्री च द्वितीयं ब्रहमचारिणी। तृतीयं चन्द्रघण्टेति कूष्माण्डेति चतुर्थकम। पंचमं स्क्न्दमातेति षष्ठं कात्यायनीति च। सप्तमं कालरात्रीति महागौरीति चाष्टमम। नवमं सिद्धिदात्री च नवदुर्गाः प्रकीर्तिताः। माँ दुर्गा की आरती – दुर्गा माता जी की आरती जय अंबे गौरी,…
Read More

मकान के वास्तु टिप्स : Vastu Tips for Home in Hindi

वास्तु
मकान के वास्तु टिप्स : Vastu Tips for Home in Hindi मकान के वास्तु टिप्स – मकान निर्माण के समय ध्यान रखने वाली मुख्य बातें पूर्व और उत्तर दिशा मे मकान का मुख्य प्रवेश द्वार सामान्तया सभी के लिए अच्छा होता हैं, पश्चिम एवं दक्षिण दिशा के स्थित प्रवेश द्वार भी व्यक्ति के काम और जन्म कुंडली के अनुसार अनुसार अच्छा हो सकता हें. मकान के उत्तर एवं पूर्व मे अपेक्षाकृत अधिक खाली स्थान रखना चाहिए. मकान का दक्षिण एवं पश्चिमी हिस्सा अपेक्षाकृत भारी एवं ऊचा होना चाहिए. मकान का मध्य स्थान जिसे ब्रह्म स्थान कहा जाता हें, हमेशा खाली रहना चाहिए. भगवान की मूर्तिया या तस्वीरों को इस तरह स्थापित करे, जिससे की पूजा करते समय आपका मुंह पूर्व या उत्तर दिशा की और हो. दिशाए एवं उनके उपयुक्त…
Read More

Hanuman Chalisa Lyrics – Jai Hanuman Gyan Gun

विविधा
|| Doha || Shri Guru Charan Sarooja-Raj | Nija Manu Mukura Sudhaari || Baranau Rahubhara Bimala Yashu | Jo Dayaka Phala Chari || Budhee-Heen Thanu Jannikay | Sumirow Pavana Kumara || Bala-Budhee Vidya Dehoo Mohee | Harahu Kalesha Vikaara || || Chopai || Jai Hanuman Gyan Gun Sagar | Jai Kapis Tihun Lok Ujagar || Ram Doot Atulit Bal Dhama | Anjaani-Putra Pavan Sut Nama || Mahabir Bikram Bajrangi |Kumati Nivar Sumati Ke Sangi || Kanchan Varan Viraj Subesa |Kanan Kundal Kunchit Kesha || Hath Vajra Aur Dhuvaje Viraje |Kaandhe Moonj Janehu Sajai || Sankar Suvan Kesri Nandan |Tej Prataap Maha Jag Vandan || Vidyavaan Guni Ati Chatur |Ram Kaj Karibe Ko Aatur || Prabu Charitra Sunibe-Ko Rasiya |Ram Lakhan Sita Man Basiya || Sukshma Roop Dhari Siyahi Dikhava |Vikat…
Read More

Shiv Ji Ki Arti – Jai Shiv Omkara Lyrics

विविधा
"Om Namay Shivay" Among three supreme gods 1st one is Lord Shiva, Second one is Brahma and third one Vishnu. Lord Shiva is the destroyer and also has a positive side in that destruction usual leads to new forms of existence. Lord Shiva is described in art with four hand, four faces and three eyes. Monday fast is practiced to propitiate Lord Shiva and Parvati. The panchakshara Mantra “Om Namah Shivaya” should be repeated on this day. The Monday fast is up to the third phase. Shiv Ji Ki Aarti – Jai Shiv Omkara Om Jai Shiv Omkara, Prabhu Har Shiv Omkara | Brahma Vishnu Sada Shiv, Ardhangii Dhara || Om Jai Shiv Omkara… Ekanana Chaturanan Panchanan Raje | Hansanan, Garuraasan Vrishvahan Saje || Om Jai Shiv Omkara…. Do Bhuja,…
Read More

ऑफिस के लिए वास्तु टिप्स – Vastu Tips for Office in Hindi

वास्तु
ऑफिस के लिए वास्तु टिप्स – Vastu Tips for Office in Hindi आप का ऑफिस यानी कार्यालय आपके पेशे या व्यापार के लिए सोचने, काम के क्रियान्वन, व्यापार में वृध्दि और धन सृजन की जगह है | इस स्थान पर आप और ऑफिस में कम करने वाले आपके अन्य सहयोगी अपनी आजीविका कमाने, अपनी महत्वाकांक्षाओं को पूरा करने और पेशे या व्यवसाय में सफलता प्राप्त करने के लिए अपने उत्पादक समय का एक बड़ा हिस्सा व्यतीत करते हैं| आपके कार्यालय का आकार और डिजाइन कर्मचारियों को सकारात्मक ऊर्जा देने वाला और कार्य में समृद्धि देने वाला होना चाहिए | आपके कार्यालय के लिए बुनियादी वास्तु सुझाव : कार्यालय की इमारत के लिए प्लॉट चौकोर या आयताकार होना चाहिए. अनियमित आकार के भूखंडों से बचा जाना चाहिए| ऑफिस के मुखिया या मालिक के…
Read More

ऑफिस में लगातार बैठने से होने वाले पीठ दर्द से राहत

तन
ऑफिस में लगातार बैठने से होने वाला पीठ दर्द से राहत ऑफिस में लगातार काम करने से कमर के निचले हिस्से में दर्द होना एक आम बीमारी है| यह काम के दौरान बेचैनी का कारण बनता है। इस दर्द का मुख्य कारण गलत तरीके से बैठना या लंबे समय तक बैठा रहना है| यहाँ कुछ तरीके हैं जिनसे आप पीठ दर्द से राहत पा सकते हैं :- लंबे समय तक लगातार बैठे रहने से बचें| हर आधे घंटे में अपने ऑफिस में ही कुछ कदम चलें| कार्य करने की मेज के नीचे पैरो को टिकाने के लिए कोई सहारा रखें| अपने पैरों को सहारे पर रखकर आराम दें या अपने घुटनों की ऊंचाई को अपने कूल्हे की ऊँचाई से ऊपर रखें| मांसपेशियों को आराम देने के लिए कार्य के दौरान…
Read More

Pin It on Pinterest

Share This