आँवले के गुण, लाभ एवं प्रयोग

प्राकृतिक
आँवला आँवला भारत में सर्वत्र होता है। ऊंचाई स्थान भेद से न्यूनाधिक है। राजस्थान में 20 फीट, काठियावाड़ में 15 से 20 फीट, फल गोलाकार 6 खांच वाला होता है। विभिन्न भाषाओं में आँवले के नाम :- संस्कृत – आमलकी, धात्रीफल, अमृतफल हिन्दी – आमला, आँवला अंग्रेजी – Emblic Myrobalan लेटिन – Phyllanthus Emblica आँवले के गुण आँवला कसैला, खट्टा, मधुरविपाक युक्त्त, शीतवीर्य है। दाह, पित्त, वमन, प्रमेह, शोफ आदि का नाशक और रसायन है। आंवले में मुख्य रस अम्ल होने से वात को शीतवीर्य और मधुर होने से पित्त को तथा सक्षगुण और कसैला रस होने से कफ को दूर करता है। अर्थात आंवले का उपयोग तीनों दोषों की विकृति पर होता है। ताजे आंवले रोज खाने पर निरोगी मनुष्य की सब क्रिया सबल होकर (रसायन गुण प्राप्त होकर) निर्बलता…
Read More

अदरक के लाभ एवं उपयोग

प्राकृतिक
अदरक – एक आयुर्वेदिक औषधि भोजन को स्वादिष्ट व पाचन युक्त बनाने के लिए आमतौर पर अदरक का उपयोग किया जाता है। इसका अधिकांश उत्पादन केरल राज्य में होता है। यह भूमि के अंदर उगती है। अदरक को सुखा कर सौंठ बनाई जाती है। गीली मिट्टी में दबाकर रखने से यह काफी समय तक ताजा बनी रहती है। अदरक हृदय रोग को दूर करती है साथ ही शुगर तथा डायबिटीज को भी नियंत्रित करती है। नियमित रूप से अदरक में नींबू और सैंधा नमक मिलाकर खाने से कैंसर से बचा जा सकता है। अदरक कफ का नाश करती है और इसका अधिक सेवन रक्त की पुष्टि करता है। यह एक उत्तम पाचक है। आम से उत्पन्न होने वाले अजीर्ण, अफरा, शूल, मितली और उलटी आदि में तथा सर्दी-खाँसी में अदरक…
Read More

नींबू के गुण, लाभ एवं प्रयोग

प्राकृतिक
नींबू के गुण, लाभ एवं प्रयोग Lemon Contents नींबू में विटामिन ए, बी और सी भरपूर मात्रा में होता हैI विटामिन ए, बी और सी ये तीनों 1:2:3 के अनुपात में होते हैंI इसमें पोटेशियम, लोहा, सोडियम, मैगनेशियम, तांबा, फास्फोरस और क्लोरीन तत्त्व के साथ-साथ प्रोटीन, वसा और कार्बोज भी पर्याप्त मात्रा में हैं। विटामिन सी से भरपूर नींबू शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के साथ ही एंटी-ऑक्सीडेंट का काम भी करता है और कोलेस्ट्राल को भी कम करता है। नींबू में मौजूद विटामिन सी और पोटेशियम घुलनशील होते हैं, जिसके कारण ज्यादा मात्रा में इसका सेवन भी नुकसानदायक नहीं होताI नींबू के प्रयोग एवं फायदे Lemon Usages and Benefits नीबू का शर्बत(सिकंजी) –  गर्मी के दिनों में व्याकुलता, अपचन, उबाक, वयन, अरुचि, तृष्णा तथा रक्तविकार को दूर रहता हैI…
Read More

च्यवनप्राश बनाने की विधि एवं लाभ

प्राकृतिक
च्यवनप्राश के लाभ एवं विधि आमले की प्रचुरता लिए अनेक आयुर्वेदिक जड़ीबूटियो का मिश्रण च्यवनप्राश, एक आयुर्वेदिक दवाई है जो की शरीर की प्रतिरोधी श्रमता (immunity) को बढ़ाता है और संक्रमण के खिलाफ लड़ने में मदद करता है। सर्दियों में इसका उपयोग अधिक किया जाता है जो की सर्दियों में होने वाली संक्रमण (इन्फेक्शन) और एलर्जी जनित बिमारियों के खिलाफ संरक्षण प्रदान करता है। च्यवनप्राश के फायदे - Chyawanprash Benefits इसके सेवन से खांसी, श्वास, प्यास, वातरक्त, छाती का जकड़ना, वातरोग (गैस) , पित्तरोग (एसिडिटी), शुक्रदोष एवं मूत्रदोष आदि नष्ट हो जाते हैंI यह शारीरिक वृध्दि और स्मरण शक्ति को बढाता है इसलिए बालक एवं वृध्धजनो के लिए भी इसका सेवन लाभवर्धक हैं I 10 से 20 ग्राम च्यवनप्राश का सेवन सांय-काल दूध के साथ कर सकते हैI बाज़ार में…
Read More

नीली व्हेल मछली – Blue Whale fish in Hindi

प्राकृतिक
नीली व्हेल मछली – Blue Whale fish in Hindi बिश्व में सबसे बड़ी मछली नीली व्हेल – Blue Whale fish समुद्र में रहने वाले प्राणियों में से व्हेल एक विशाल मछली है| इसकी अलग-अलग प्रकार की प्रजातियां होती हैं जैसे स्पर्म व्हेल, किलर व्हेल, पायलट व्हेल, बेलुगा व्हेल आदि| इसकी लंबाई 115 फुट और वजन 150 से 170 टन तक होता है, जबकि कुछ व्हेल 11 फुट की भी होती हैं| व्हेल मछली सदियों से मानव सभ्यता के साथ भी जुड़ी है। कई देशों में व्हेल मछली के किस्से-कहानियां प्रचलित हैं| पांच करोड़ पहले ये विशाल मछली समुन्द्र में आई| अन्य प्राणियों की तरह व्हेल हवा में सांस लेती है, उसका खून गर्म होता है, बच्चों को दूध पिलाती है और उसके शरीर पर बाल होते हैं| व्हेल मछली की…
Read More

मेथी के गुण एवं उपयोग

प्राकृतिक
मेथी के गुण एवं उपयोग (Methi Properties and Usage) मेथी के पौधे की ऊंचाई 1-2 फीट, पान 3 पर्ण युक्त छोटा, खड़ा, कोमल, तेज गंध वाला, कुल लम्बे गोल दांतेदार फूल पत्र, कोपा में पीले रंग के वृन्त रहित फली 2 से 4 इंच लम्बी, 10 से 20 दाने वाली, बीज पीले और हरे भी होते है। मेथी का अंग्रेजी नाम और लेटिन Trigonella Foenum Graecum होता है। मेथी भारत के अनेक प्रान्तों में बोयी जाती है। मेथी के कोमल ताजा पत्तों का शाक बनता है और बीज का औषधी के रूप में प्रयोग होता है। मेथी के बीज यानि दानो का धरेलू प्रयोग सब्जी और लड्डू बनाने में भी किया जाता है, मेथी के दाने हरे और पीले दो रंगों में बाजार में मिलते है। मेथी के गुण (Methi…
Read More