इन्टरनेट ऑफ़ थिंग्स क्या है – IOT in Hindi

IOT इन्टरनेट ऑफ़ थिंग्स, इन्टरनेट पर जुडी हुई चीजो की एक प्रणाली है| ‘थिंग्स’ का तात्पर्य एक इकाई या चीज से है जो कि इंसान, वस्तु या जानवर कुछ भी हो सकता हैI इसे M2M के नाम से भी जाना जाता है| इस प्रणाली से जुडी हर एक चीज यानि वस्तु, जानवर एवं इंसान को एक यूनिक आई डी (पहचान) दी जाती है, ये सभी आपस में नेटवर्क पर जुड़े होते है और इसमें लगे प्रोग्राम के द्वारा एक दूसरे को बिना कोई बटन दबाये अपने आप डाटा भेजते रहते है| इस प्रणाली में इंसानी हस्तक्षेप बहुत कम होता है, सारा काम स्वतः ही हो जाता हैI

IOT के उदहारण के लिए ह्रदय की बीमारी के मरीज की स्वस्थ की जानकारी के लिए उसे पहनने के लिए एक बैंड (पट्टा) देते है जिसमे  सेंसर प्रणाली होती है जो की दूर से मरीज ​​की बॉयोमीट्रिक्स (ईसीजी, हृदय गति, श्वसन दर और गतिविधि के स्तर) का डाटा पढ़ कर चिकित्सक को भेजती रहती है| इसके उपयोग से मरीज बिना अस्पताल जाये अपने दैनिक कार्य करते हुए, डॉक्टर की निगरानी में रह सकता है|

एक और IOT उदहारण इन्टरनेट फ्रिज का ले सकते है, यह फ्रिज इन्टरनेट पर wi fi से कनेक्ट हो सकता है| यह फ्रिज में रखे सामान की फोटो ले कर उसे आप के मोबाइल पर दिखा एकसकता है और साथ इसके गेट पर लगी LED स्क्रीन पर अलार्म, रिमाइंडर और सन्देश भी दिखा सकता है| इसमे और फीचर जोड़े तो यह भी संभव है की दूध की भगोनी में, दूध कम होने पर और दूध का आर्डर भी किया जा सकता है|

IoT प्रणाली से जुड़े चीजे और सेंसर किसी भी माध्यम से आपस में जुड़े हो सकते है, जैसे RFID, NFC, वाई-फाई, ब्लूटूथ, GPRS, 3जी या 4जी में से कुछ भी उपयोग हो सकता है|

भविष्य – ‘इंटरनेट ऑफ़ थिंग्स’ IOT के द्वारा भविष्य में ऐसे क्रांतिकारी कार्य होने जा रहे है, जिसके बारे में कभी कल्पना भी नहीं की होगी| रिसर्च कंपनी गार्टनर के अनुमानों के मुताबिक 2020 तक 26 अरब IOT इकाइयों का कारोबार होगा, इनमें कंप्यूटर एवं मोबाइल फ़ोन शामिल नहीं है| वर्तमान में इंसानों द्वारा किये जा रहे वहुत से रूटीन कार्यो को IOT प्रणाली और इंटेलिजेंस से आटोमेटिक करने से काम स्वतः ही हो जागेया और इंसानी हस्तक्षेप कम होगा|  इस से भविष्य में इंसानों को नयी सुविधाए तो मिलेगी पर साथ ही नुकसान यह होगा की इन्सान के द्वारा किये जाने वाले कार्यो को मशीनो द्वारा कुशलता से किया जाने लगेगा जिससे इंसानो के लिए काम के अवसरों यानि नौकरियों में कमी आ सकती है|

धर्मेन्द्र मिश्र
सूचना तकनीक विशेषज्ञ

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Pin It on Pinterest

Share This